Wifi क्या है ये कैसे काम करता है,Full Form,Standards और Wifi कैसे लगवाये ?

हेलो दोस्तो Zaiditech में आप सभी का स्वागत है क्या आप जानते है कि Wifi क्या है ये कैसे काम करता है, Wifi Full Form , Standard और Wifi कैसे लगवाये .

शायद ही कोई ऐसा व्यक्ति हो जिसने की wifi के बारे में न सुना हो लेकिन Wifi Full Form , Standard, Connection के बारे में ज़्यादा लोगो को नही पता होता है .

वैसे तो इंटरनेट का चलन काफी पहले से हो गया था लेकिन wifi शब्द उसके काफी टाइम बाद सामने आया और अगर आज की बात करे तो इसके बारे में ज़्यादातर सभी को पता होगा .

इसका चलन इतना ज़्यादा बड़ गया है कि आपको छोटे से छोटे मोबाइल में भी wifi देखने को मिल जायेगा .

तो आइये अब बिना देर किये जानते है कि Wifi क्या है और Wifi का फुल फॉर्म क्या है ?

Wifi क्या है ये कैसे काम करता है, Wifi Full Form , Standard और Wifi कैसे लगवाये .

Wifi क्या है ? Wifi Full Form in Hindi

Wifi एक प्रकार का wireless network है जिसके द्वारा हम इन्टरनेट का इस्तेमाल कर सकते है अक्सर अपने देखा होगा की जब किसी का डाटा पैक ख़तम हो जाता है तो वाह अपने दोस्तों से कहता है कि मुझे Wifi देदो तो वह व्यक्ति अपने मोबाइल में hotspot on कर देता है.

और दूसरा व्यक्ति wifi on करके इन्टरनेट का इस्तेमाल कर लेता है लेकिन इसके लिए पहले व्यक्ति के मोबाइल में डाटा on रहेगा तभी दूसरा व्यक्ति इस्तेमाल कर सकेगा

Wifi Full Form – Wireless Fidelity

Wiradio wavesfi Full Form in Hindi – वायरलेस फिडेलिटी

Wifi ISM radio bands का इस्तेमाल करके हमें wireless रूप में डाटा ट्रान्सफर करने और इन्टरनेट से connect करने में मदद करती है यह एक technology local एरिया network के अंतर्गत कार्य करता है,जो की कम एरिया तक काम करता है.

लेकिन इस तरह से हमको न किसी इन्टरनेट ब्रॉडबैंड की जरूरत पड़ती है और न ही किसी केबल कनेक्टिविटी की और आप आसानी से वायरलेस wifi के माध्यम से connect कर सकते है तो आप समझ गये होंगे की Wifi क्या है ?

Wifi Connection क्या है ?

Wifi Connection एक ऐसा कनेक्शन है जिसके द्वारा हम इन्टरनेट का इस्तेमाल कर सकते है आप बड़े बड़े शहरो में इसका connection ले सकते है और इन्टरनेट का इस्तेमाल कर सकते है जिसके लिए आपको चार्ज देना पड़ता है.

लेकिन बहुत से ऐसे जगह है जहा पर इसकी सेवा फ्री दी जाती है जैसे बहुत से रेलवे स्टेशन व बहुत से होटल में फ्री wifi की सुविधा दी जाती है जो की आप Wifi Connection के माध्यम से इन्टरनेट का इस्तेमाल करते है.

इसके लिए आपको Internet service subscription और एक modem या router की आवश्यकता होती जिसके द्वारा आप wifi कनेक्शन का इस्तेमाल अपने घर मे भी कर सकते है.

Wifi का इतिहास (History) ?

वैसे तो Wifi का अविष्कार इन्टरनेट के आने के बाद हुआ क्युकी उस समय लोग केबल के द्वारा लोग डाटा ट्रान्सफर करते थे लेकिन समय के साथ बदलाव हुआ और फिर इस wifi का अविष्कार सन 1990 Vic Hayes ने किया था ,जो की Wifi के जनक है .

San Francisco में हो रही कांफ्रेंस में Henrik Sjodin ने एक public access local area network का इस्तेमाल किये गया उस समय तो इसका कोइ नाम नही था लेकिन बाद में इसका नाम Hotspot के नाम से जाना जाता है.

सन 1997 पहला protocal इस्तेमाल किया गया जिसकी highest speed 2 mbps थी बौर इसके बाद 1999 में Wifi alliance का गठन लिया गया.

जिसका स्पीड 11 mbps रही उसके बाद 2010 में wifi hotspot की संख्या 1 मिलियन हो चुकी थी और सन 2014 में 5 MHz frequency का इस्तेमाल करके उत्तम स्पीड 1733 mbps थी और इसके 70 मिलियन हो गये थे तो ये था Wifi का इतिहास .

Wifi कैसे काम करता है ?

आप जब भी कही ट्रेवल करते है तो आपको सरकार के द्वारा फ्री wifi की सेवा अधिकतर रेलवे स्टेशन पे दी जाती है हमारे लैपटॉप में एक wireless adopter होता है जो की डाटा को radio waves में बदल देता है.

और इसे antenna के द्वारा ट्रांसिस्ट करता है wireless router सिग्नल को रिसीव करता है और router इनफार्मेशन को physical wired ethernet connection के माध्यम से इन्टरनेट भेजता है.

तो wifi कुछ इसी तरह काम करता है आजकल हम किसी भी डिवाइस में इन्टरनेट इस्तेमाल कर सकते है लेकिन कंप्यूटर या लैपटॉप में usb port से या इसी wifi के माध्यम से इन्टरनेट इस्तेमाल करते है.

Wifi के Features ?

हर कोइ चाहता है की उसके wifi की स्पीड fast और सुरक्षित हो जिससे की वह fast इन्टरनेट का इस्तेमाल कर सके ऐसे ही इसके बहुत से फीचर है जो की आपको आगे बताते है –

1-High Capacity Load Balancing

शुरुआत के समय में इसकी कवरेज का ही विशेष ध्यान दिया गया था लेकिन आज के समय में लोगो के पास बहुत से डिवाइस हो चुके है ऐसे में इसकी capacity को बढ़ा दिया गया है.

ताकि आज के समय में आप कई device का इस्तेमाल अच्छी स्पीड के साथ कर सके आर जिससे इसकी लोड बैलेंसिंग को maintaine बना रहे .

2- Indoor and Outdoor Coverage option

वैसे तो आपको लगता होगा की यह सिर्फ रूम या घर के अंदर ही प्रयोग करने के लिए होता है लेकिन आज के समय में जब आप बाहर जाते है तो आपको रेलवे स्टेशन में आउटडोर zone के अंतर्गत कवरेज देता है और यदि आप router ले जाये तो ध्यान दे की यह Outdoor Coverage option पर select हो.

3-Speed

क्या आपने कभी रेलवे स्टेशन का फ्री wifi इस्तेमाल किया है अगर कोई होगा तो आपको जरूर पता होगा की मोबाइल इन्टरनेट की तुलना में wifi की स्पीड काफी बढ़िया होती है आप कोइ भी मूवीज जल्दी डाउनलोड कर सकते है.

और अगर आप विडियो को ऑनलाइन प्ले करते है तो विडियो बिना buffering के चलेगी तो इससे आप अंदाजा लगा सकते है की wifi की speed कितनी तेज होती है .

4- Efficiency

जैसा की आप जानते होंगे जब आप कही सफ़र कर रहे हो तो उस समय आपके मोबाइल की बैटरी काफी तेजी से खत्म होती है क्योंकि उस समय आपके मोबाइल में network change होता रहता है.

जिस वजह से मोबाइल की बैटरी ज़्यादा जल्दी drain होतीहै ऐसे में बात की जाये इस सेवा की तो ये radio waves का इस्तेमाल करती है तो इस वजह से आपकी बैटरी काफी देर तक चलेगी

5- Affordable

तो दोस्तों जब हम मोबाइल में इन्टरनेट का इस्तेमाल करते है तो इसमें limitation होती है यानि की आप इतना ही डाटा का इस्तेमाल करसकते है है लेकिन इसमें आपको unlimited प्लान्स दिया जाता है जो आप जितना चाहे उतना इस्तेमाल कर सकते है और यह मोबाइल इन्टरनेट की तुलना में काफी सस्ता पड़ता है.

Wifi के standards ?

सामान्य रूप से इस network की 2.4 GHz होती है जिसकी रेंज indoor में 150 फीट यानि की 45 मीटर होती है और आउटडोर की बात की जाये तो 300 फीट यानि की 90 मीटर की होती है जो की पुराने router की तुलना में 5 GHz की तुलना में 3 गुना ज्यादा रेंज दे रहा है .

Wifi कैसे लगवाये ?

अगर आप इस सेवा का इस्तेमाल करना चाहते है तो सबसे पहले आपको अपने एरिया में देखना होगा की कौन कौन से network है जो इस सेवा को प्रदान कर रहे है जैसे एयरटेल brodband और बीएसएनएल ब्रॉडबैंड जैसे बहुत से network इस सेवा को प्रदान करते है.

तो आप उनसे उनके प्लान्स के बारे में पुछ सकते है और अब तो जिओ फाइबर भी यह सेवा प्रदान करने लगा है तो ऐसे में आपको जो सस्ता और अच्छा पड़े उस सेवा का लाभ ले सकते है.

और जब आप प्लान ले लेते है तो आपको एक router की जरूरत होती जिससे आप ethernet केबल connect करके access ले सकते है और आप अपना यूजरनाम व पासवर्ड चुन कर अपना wifi network तैयार कर सकते है .

Wifi के फायदे क्या-क्या है ?

1- इसका installation आसान है जो की बिना किसी टेक्निकल नॉलेज के आप आसानी से कर सकते है .

2-इस network को access करने के लिए सिर्फ आपको पासवर्ड की आवश्यकता होती है यानि की आपको इसके लिए ज्यदा कुछ नहीं करना होता है .

3- मोबाइल डिवाइस में इस फंक्शन का इस्तेमाल करना आसान है यानि की यह फंक्शन ज़्यादातर सभी मोबाइल में होता है और आप जब चाहे इसका इस्तेमाल कर सकते है .

4- wifi enable dongle आपको मार्किट में काफी कम दामो में आसानी से मिल जायेगे जो की आप इसका इस्तेमाल कर सकते है .

5- Access point में बने इस network में client को जोड़ना और remove करना आसान है .

Wifi के नुकसान ?

1- जब एक ही network में डिवाइस की संख्या बढती हाई तो data ट्रान्सफर rate कम हो जाता है जिससे हमें wifi की स्पीड पहले की तुलन में कम मिलता है |

2- इस सिस्टम का wireless होने की वजह से fully securety देना मुश्किल है .

3-इसके आपको full सिक्यूरिटी के लिए आपको proper security authentication protocols और configuration की आवश्यकता पड़ती है .

4- wifi access करने का सबसे अच्छा रेंज 30 से 100 मीटर होता है इसके बाहर जाने पर सिग्नल कम होने लगता है यानि की आपको fast स्पीड के लिए इसके रेंज के अन्दार्रेहना जरूरी है .

5- अगर कभी कभी ये सेवा काम नहीं करता तो उसके troubleshoot की जरूरत पड़ती है जिसके लिए डिवाइस की बेसिक नॉलेज होना आवश्यक होता है तभी आप इस समस्या का निवारण कर सकते है .

तो दोस्तो मुझे उम्मीद है आपको समझ आ गया होगा कि Wifi क्या है ये कैसे काम करता है , WIFI Full Form , Standards और wifi कैसे लगवाये .

लेकिन अगर आपको अभी भी wifi full form या wifi से सम्बंधित कोई भी जानकारी चाहये तो आप comment box में comment करके पूछ सकते है .

Author: Saurabh Shrivastava

हेलो दोस्तों मेरा नाम सौरभ श्रीवास्तव है, मै इस ब्लॉग पर टेक्नोलॉजी,एजुकेशन,और ब्लॉगिंग से संबंधित आर्टिकल डालता हूँ आप मेरे इस आर्टिकल पर अपनी राय ज़रूर दे .

2 COMMENTS

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.